अजीव  

जैन धर्म में आत्मारहित तत्त्व, जो जीव (आत्मा, सजीव तत्त्व) के विपरीत है। अजीव को इस प्रकार विभक्त किया गया है।

  1. आकाश, 'अतरिक्ष'
  2. धर्म, जो गति को संभव बनाता है',
  3. अधर्म, 'जो शेष क्रियाओं को संभव बनाता है'
  4. पुद्गल, यानी 'पदार्थ', पुद्गल में अणु होते हैं; यह अमर है, लेकिन इसमें परिवर्तन और विकास हो सकता है; यह स्थूल (जिसे देखा जा सकता है) और सूक्ष्म (जिसे इंद्रियों के द्वारा अनुभूत नहीं किया जा सकता), दोनों ही है।

अद्दश्य कर्म (कारक) पदार्थ, जो आत्मा के साथ जुड़ा रहता है और इसे भार प्रदान करता है, सूक्ष्म पुद्गम का एक उदाहरण है। पहले तीन प्रकार के अजीव, आत्मा और पदार्थ के अस्तित्व के लिए आवश्यक शर्तें हैं। ऊपर वर्णित कुछ पारिभाषिक शब्दों का उपयोग बौद्ध दर्शन में भी हुआ है, लेकिन उनका अर्थ काफ़ी भिन्न है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अजीव&oldid=469746" से लिया गया