विमलदास  

आचार्य विमलदास

  • इनकी 'सप्तभंगीतरंगिणी' नाम की तर्क कृति है, जिसमें सप्तभंगों का अच्छा विवेचन किया गया है।
  • यह दर्शन और न्याय दोनों की प्रतिपादिका है।
  • इनका समय वि. की 18वीं शती है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विमलदास&oldid=67687" से लिया गया