लघु समन्तभद्र  

  • इनका समय वि. सं. 13वीं शती है।
  • इन्होंने विद्यानन्द की अष्टसहस्री पर एक टिप्पणी लिखी है, जो अष्टसहस्री के कठिन पदों के अर्थबोध में सहायक है।
  • इसका नाम 'अष्टसहस्रीविषमपदतात्पर्यटीका' है।
  • यह स्वतन्त्र रूप से अभी अप्रकाशित है।
  • किन्तु अष्टसहस्री की पाद-टिप्पणियों में यह प्रकाशित है, जिनके सहारे से पाठक अष्टसहस्री के उन पदों का अर्थ कर लेते हैं, जो क्लिष्ट और प्रसंगोपात्त हैं।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=लघु_समन्तभद्र&oldid=67548" से लिया गया