अपरनंदा नदी  

पांडवों की तीर्थयात्रा के प्रसंग में नंदा और अपरनंदा नामक नदियों का उल्लेख है जो संदर्भानुसार पूर्व बिहार या बंगाल की नदियाँ जान पड़ती हैं।

'तत: प्रयात: कौन्तेय: क्रमेण भरतर्षभ,
नन्दामपरनन्दां च नद्यौ पापभयापहे'[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत वन पर्व 110,1

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अपरनंदा_नदी&oldid=239836" से लिया गया