ह्लादिनी नदी  

ह्लादिनी नदी एक प्राचीन नदी थी, जिसका उल्लेख वाल्मीकि रामायण के अयोध्याकाण्ड में हुआ है।[1]

'ह्लादिनीं दूरपारां च प्रत्यक्स्त्रोतस्तरंगिणीम, शतद्रुमतरछीमान् नदीमिक्ष्वाकुनंदनः।'

  • ह्लादिनी नदी सतलुज के पूर्व में बहती थी।
  • कुछ पुराणों में ऐसा आया है कि शिव ने अपनी जटा से गंगा को सात धाराओं में परिवर्तित कर दिया था, जिनमें तीन- 'नलिनी', 'ह्लादिनी' एवं 'पावनी' पूर्व की ओर; तीन- 'सीता', 'चक्षुस' एवं 'सिन्धु' पश्चिम की ओर प्रवाहित हुईं और सातवीं धारा भागीरथी हुई।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 1032 |
  2. अयोध्याकाण्ड 71, 2
  3. मत्स्य पुराण 121|38-41; ब्रह्माण्ड पुराण 2|18|39-41 एवं 1|3|65-66)। कूर्म पुराण (1|46|30-31

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ह्लादिनी_नदी&oldid=500908" से लिया गया