नवालिका नदी  

नवालिका नदी अथवा 'नयार नदी' गढ़वाल, उत्तराखंड में बहने वाली नदी है। ऋषिकेश में देवप्रयाग जाने वाले मार्ग में यह नदी मिलती है।[1]

  • यह नदी 'व्यास घाट' नामक स्थान पर गंगा नदी से मिल जाती है।
  • नवालिका नदी का पुराणों में भी उल्लेख हुआ है।
  • गंगा नदी और इसके संगम पर इन्द्रप्रयाग बसा हुआ है।
  • पुराणों में कथा है कि वृत्रासुर से परास्त होने पर इन्द्र ने इसी स्थान पर आकर शिव की आराधना की थी और वरदान प्राप्त करके उन्होंने इस दैत्य का संहार किया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 482 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नवालिका_नदी&oldid=282871" से लिया गया