इरावती नदी  

इरावती पंजाब की प्रसिद्ध नदी रावी है। रावी इरावती का ही अपभ्रंश है। इरावती का वैदिक नाम परुष्णी था। 'इरा' का अर्थ मदिरा या स्वादिष्ट पेय है। महाभाष्य 2,1,2 में इरावती का उल्लेख है। महाभारत, भीष्मपर्व 9,16 में इसको वितस्ता और अन्य नदियों के साथ परिगणित किया गया है-

'इरावतीं वितस्तां च पयोष्णीं देवकामपि'।

सभा पर्व महाभारत 9,19 में भी इसी प्रकार उल्लेख है-

'इरावती वितस्ता च सिंधुर्देवनदी तथा।'

ग्रीक लेखकों ने इरावती को हियारावटाज लिखा है।

इरावती पूर्व उत्तर प्रदेश की राप्ती का भी प्राचीन नाम इरावती था।

ऐतिहासिक उल्लेख

यह नदी कुशीनगर के निकट बहती थी जैसा कि बुद्धचरित 25, 53 के उल्लेख से सूचित होता है- 'इस तरह कुशीनगर आते समय चुंद के साथ तथागत ने इरावती नदी पार की और स्वयं उस नगर के एक उपवन में ठहरे जहाँ कमलों से सुशोभित एक प्रशान्त सरोवर स्थित था'। अचिरावती या अजिरावती इरावती के वैकल्पिक रूप हो सकते हैं। बुद्धचरित के चीनी-अनुवाद में इस नदी के लिए कुकु शब्द है जो पाली के कुकुत्था का चीनी रूप है। बुद्धचरित 25, 54 में वर्णन है कि निर्वाण के पूर्व गौतम बुद्ध ने हिरण्यवती नदी में स्थान किया था जो कुशीनगर के उपवन के समीप बहती थी। यह इरावती या राप्ती की ही एक शाखा जान पड़ती है। स्मिथ के विचार में यह गंडक है जो ठीक नहीं जान पड़ता। बुद्धचरित 27, 70 के अनुसार बुद्ध की मृत्यु के पश्चात् मल्लों ने उनके शरीर के दाहसंस्कार के लिए हिरण्यवती नदी को पार करके मुकुटचैत्य[1] के नीचे चिता बनाई थी। संभव है महाभारत सभा 9, 22 का 'वारवत्या' भी राप्ती ही हो।

ब्रह्मदेश की इरावदी

इरावदी नाम प्राचीन भारतीय औपनिवेशिकों का दिया हुआ है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 79| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार


  1. देखें मृकुटचैत्यवंधन

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=इरावती_नदी&oldid=627803" से लिया गया