वेदश्रुति नदी  

वेदश्रुति नदी हिन्दू धार्मिक ग्रंथ वाल्मीकि रामायण में वर्णित एक प्राचीन नदी थी। वाल्मीकि रामायण के वर्णन के अनुसार श्रीराम, लक्ष्मण तथा सीता ने अयोध्या से वन जाते समय कोसल देश की सीमा पर बहने वाली इस नदी को पार किया था-

'एता वाचोमनुष्याणां ग्रामसंवासवासिनां शृण्वन्नतिययौवीरः कोसलान् कोसलेश्वरः। ततो वेदश्रुतिं नाम शिववारिवहां नदीम् उत्तीर्याभिमुखः प्रायादगस्त्याध्युषितां दिशम्।'[1]
  • इससे पहले राम, लक्ष्मण तथा सीता ने तमसा नदी के तीर पर वनवास की पहली रात्रि व्यतीत की थी।[2]
  • वेदश्रुति के पश्चात् गोमती[3] तथा स्यंदिका[4]को तीनों ने पार किया था।
  • इस प्रकार वेदश्रुति, तमसा और गोमती नदियों के बीच में स्थित कोई नदी जान पड़ती है।
  • श्री नं. ला. डे के अनुसार यह अवध की बेता (वेता) नदी है।[5]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वाल्मीकि रामायण, अयोध्या काण्ड 49, 8-9
  2. अयोध्या काण्ड 46,1
  3. अयोध्या काण्ड 49,10
  4. अयोध्या काण्ड 49,11
  5. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 874 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वेदश्रुति_नदी&oldid=611287" से लिया गया