पुनपुन नदी  

  • पुनपुन का महत्त्व हिन्दू धर्म के लिए बहुत अधिक है।
  • इस नदी को पवित्र नदी के रूप में पूजा जाता है।
  • पुनपुन नदी को कीकट नदी भी कहा जाता है।
  • कहीं-कहीं पर इसे बमागधी भी कहा जाता है।
  • झारखण्ड में पुनपुन एवं उसकी सहायक नदियों का उदगम हज़ारीबाग़ पठार व पलामू के उत्तरी क्षेत्रों से होता है।
  • यह नदी तथा इसकी सहायक नदियाँ उत्तरी कोयल प्रवाह क्षेत्र के उत्तर से निकलकर सोन के समानान्तर बहती है।
  • गंगा में मिलने से पूर्व इसमें दीर्धा और मोरहर नामक सहायक नदियाँ आ मिलती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पुनपुन_नदी&oldid=285999" से लिया गया