कनका नदी  

कनका नदी भारत की प्राचीन नदियों में से एक, जो श्राद्ध आदि कर्म के लिए अति पवित्र मानी जाती है। मुण्डप्रस्थ पर्वत पर तपस्या करते समय लोमश ऋषि ने बहुत-सी नदियों के साथ इसका भी आह्वान किया था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

पौराणिक कोश |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संपादन: राणा प्रसाद शर्मा |पृष्ठ संख्या: 81 |

  1. वायुपुराण 108.80

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कनका_नदी&oldid=430554" से लिया गया