भद्रा नदी  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
भद्रा नदी

भद्रा नदी उत्तरकुरु की एक नदी जो उत्तर के पर्वतों को पारकर उत्तरी समुद्र में गिरती है-

'भद्रा तथोत्तरगिरीनुत्तरांश्च तथाकुरून् अतीत्योत्तरमम्भोधिं समभ्येति महामुने'
  • इसी प्रसंग में सीता, चक्षु अलकनंदा और भद्रा, गंगा की ये चार शाखाएं कही गई हैं जो चारों दिशाओं में प्रवाहित होती हैं।
  • ऐसा प्रतीत होता है कि विष्णु पुराण के रचयिता के मत में ये चारों नदियाँ एक ही स्थान से उद्भुत होकर क्रमश: पूर्व, पश्चिम, दक्षिण और उत्तर की ओर बहती थीं।
  • यह भौगोलिक उपकल्पना अंवेषणीय अवश्य है और इसमें तथ्य का अंश जान पड़ता है।
  • भद्रा इस प्रसंग के अनुसार साइबेरिया में बहने वाली कोई नदी हो सकती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भद्रा_नदी&oldid=281902" से लिया गया