आकाशगंगा नदी  

  • आकाशगंगा नदी का बदरिकाश्रम के निकट उल्लेख है।[1]
  • जिससे यह गंगा नदी की अलकनंदा नाम की शाखा जान पड़ती है।
  • पौराणिक किंवदंती में गंगा को आकाश मार्ग से जाने वाली नदी माना जाता था।
  • बदरिकाश्रम के निकट, महाभारत में, जिस वैहायसह्रद का उल्लेख है वह आकाशगंगा या अलकंनदा का ही स्रोत जान पड़ता है।[2]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 'आकाशगंगा प्रयता: पांडवास्तेऽभ्यवादयन्' महाभारत, वनपर्व 142,11
  2. 'यत्र साबदरी रम्या ह्रदोवैहायसस्तथा' शांतिपर्व, 127, 3

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आकाशगंगा_नदी&oldid=171812" से लिया गया