कपय नायक  

कपय नायक तेलंगाना के हिन्दुओं का नेता था। 1336 ई. में उसने दक्षिण भारत के पूर्वी तट पर अपने अलग राज्य की स्थापना की थी।

  • भारत से मुसलमानों का जुआ उतार फेंकने के प्रति कपय नायक दृढ़-प्रतिज्ञ था।
  • दिल्ली के तुग़लक़ वंश की शक्ति क्षीण होने पर 1335-1336 ई. के पश्चात् कपय नायक ने स्वतंत्र राज्य स्थापित कर लिया।
  • हिन्दू साम्राज्य की स्थापना करने में विजयनगर राज्य के संस्थापक दो भाइयों हरिहर और बुक्का के साथ उसने सहयोग किया।
  • कपय नायक ने अपनी राजधानी वारंगल में स्थापित की थी।
  • 1442 ई. में वारंगल पर बहमनी राज्य का आधिपत्य हो गया और हिन्दू साम्राज्य का सपना टूट गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 76 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कपय_नायक&oldid=235124" से लिया गया