मेदिनीराय  

मेदिनीराय मेवाड़ के राणा संग्राम सिंह का एक स्वामिभक्त सामंत था। वह बड़ा ही वीर और साहसी व्यक्तित्व का धनी था। अपने इन्हीं वीरोचित्त गुणों के कारण वह इतिहास में प्रसिद्ध है।[1]

  • मुग़ल बादशाह बाबर ने जब 1528 ई. में चन्देरी के क़िले पर हमला किया, उस समय क़िला मेदिनीराय के अधीन था।
  • एक भयंकर युद्ध के बाद मेदिनीराय पराजित हुआ और मारा गया तथा क़िले पर मुग़लों का अधिकार हो गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 381 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मेदिनीराय&oldid=289547" से लिया गया