शहज़ादा परवेज़  

जहाँगीर अपने पुत्र ख़ुसरो मिर्ज़ा और शहज़ादा परवेज़ के साथ
  • शहज़ादा परवेज़ बादशाह जहाँगीर का दूसरा लड़का था।
  • उसके बड़े भाई शहज़ादा खुसरो को अन्धा कर दिए जाने के बाद उसे युवराज बनाया गया।
  • कुछ समय बाद परवेज़ को मेवाड़ पर आक्रमण करने के लिए भेजा गया।
  • वह इस्लामाबाद तथा दक्खिन में ऊँचे पदों पर रहा था।
  • परवेज़ के छोटे भाई शहज़ादा ख़ुर्रम (बाद में शाहजहाँ) ने जब जहाँगीर के विरुद्ध विद्रोह कर दिया, तब उसने पिता का साथ दिया।
  • सन 1624 ई. में इलाहाबाद के निकट 'डमडम की लड़ाई' में परवेज़ ने शहज़ादा ख़ुर्रम को पराजित किया।
  • इसके बाद परवेज़ को गुजरात का सूबेदार बना दिया गया।
  • अपनी अत्यधिक शराब पीने की आदत के कारण 1626 ई. में शहज़ादा परवेज़ की मृत्यु हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भट्टाचार्य, सच्चिदानन्द भारतीय इतिहास कोश, द्वितीय संस्करण-1989 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, 233।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शहज़ादा_परवेज़&oldid=182792" से लिया गया