भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

भट्टारक  

भट्टारक जैन धर्म में मठों के स्वामी को कहते हैं। अधिकांश भट्टारक दिगम्बर होते हैं।

  • प्राचीन काल में बौद्धों और सनातनी हिन्दुओं में भी भट्टारक होने के प्रमाण हैं, किन्तु आजकल केवल जैन धर्म में ही भट्टारक मिलते हैं।
  • पूर्व समय में संपूर्ण भारत में ही भट्टारक विराजित रहते थे, परंतु कालक्रम और विषम परिस्थितियों के कारण वे दक्षिण भारत तक ही सीमित रह गये।
  • वर्तमान में पुनः जिन धर्म के संरक्षण व संवर्धन के लिये भट्टारक परम्परा को संपूर्ण भारत में पुनः स्थापित करने की संयोजना कार्यरत है।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भट्टारक&oldid=646296" से लिया गया