आलवक  

आलवक गौतम बुद्ध के समय पांचवी-छठी शती ई. पू. में पूर्व-पांचाल में स्थित एक राज्य था। यह कान्यकुब्ज से पूर्व की ओर संभवत: गाजीपुर के निकटवर्ती प्रदेश का नाम था।[1] चीनी पर्यटक युवानच्वांग ने आलवक देश को शायद चंचू कहा है। इसकी राजधानी सुत्तनिपात में आलवी बताई गई है[2] जो उवास गदसाओ नामक ग्रंथ[3] की आलभिया या आलंभिका जान पड़ती है।

  • होर्नल के अनुसार आलवी की गणना अभिधानप्पदीपिका में बीस उत्तर-भारतीय नगरों के अंतर्गत की गई है।
  • जैन-ग्रंथ कल्पसूत्र में उल्लेख है कि तीर्थंकर महावीर ने आलविका में एक वर्षाकाल व्यतीत किया था।
  • सुत्तनिपात[4] में आलवक को यक्ष-देश माना है और यहाँ का देवता एक यक्ष को बतलाया गया है जो आलवक पंचाल-खंड नाम से प्रसिद्ध था।
  • यक्ष बड़ा क्रोधी था किंतु तथागत के शांत स्वभाव के सामने उसे पराजित होना पड़ा था।
  • यक्ष उत्तरी भारत की कोई अनार्य जाति थी जिसका उल्लेख महाभारत में अनेक स्थलों पर है।
  • शिखंडी की मनोरंजक कथा[5] में एक यक्ष को पांचाल-देश के अंतर्गत[6] वन में निवास करते हुए वर्णित किया गया है।
  • आलवक में चुल्लवग्ग[7] में आलवी में अग्गालव नामक बौद्ध मंदिर का उल्लेख है।
  • संभव है कि इस देश और इसकी राजधानी का नाम संस्कृत अटवी का प्राकृत रूप हो।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वाटर्स- युवानच्वांग, जिल्द. 2,61,340।
  2. सुत्तनिपा, द बुक ऑफ किंडरेड सेइंग्ज पृ. 275
  3. भाग-2, पृष्ठ 103
  4. सुत्तनिपात 10,2,45
  5. भीष्म-पर्व
  6. कांपिल्य के निकट
  7. 6, 17
  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 71| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आलवक&oldid=627492" से लिया गया