संग्रामपुर, उत्तर प्रदेश  

Disamb2.jpg संग्रामपुर एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- संग्रामपुर (बहुविकल्पी)

संग्रामपुर उन्नाव ज़िला, उत्तर प्रदेश का एक ऐतिहासिक स्थान। यह मोरावां से जब्रैला जाने वाले मार्ग पर एक मील दक्षिण की ओर मौरावां से छः मील की दूरी पर स्थित है।[1]

  • स्थानीय जनश्रुति है कि रामायण की कथा में वर्णित श्रवण कुमार, दशरथ द्वारा इसी स्थान पर मृत्यु को प्राप्त हुए थे।
  • यहाँ एक तड़ाग के तट पर श्रवण कुमार की मूर्ति बनी हुई है। कहा जाता है कि यह वही तड़ाग है, जहां श्रवण कुमार अपने अंधे माता-पिता के लिए जल लेने जल लेने आये थे। किंतु वाल्मीकि रामायण में इस घटना की स्थिति सरयू नदी के तट पर बताई गई है-
'तस्मिन्नतिसुखेकाले धनुष्मानिषुमान्रथी व्यायामकृतसंकल्पः सरयूमन्वगां नदीम्।'[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 928 |
  2. वाल्मीकि रामायण, अयोध्या काण्ड 63, 20

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=संग्रामपुर,_उत्तर_प्रदेश&oldid=503517" से लिया गया