घोषिताराम  

घोषिताराम कौशांबी, उत्तर प्रदेश का एक प्रसिद्ध उद्यान था, जिसे यहाँ के एक विख्यात 'श्रेष्ठी'[1] 'घोषित' (सम्भवतः 'बुद्धचरित' का घोषिल) ने बनवाया था। घोषिताराम उद्यान महात्मा बुद्ध के निवास के लिए बनवाया गया था।

  • श्रेष्ठी घोषित का भवन कौशांबी नगर के दक्षिण-पूर्वी कोने में स्थित था।
  • घोषिताराम के निकट ही मौर्य सम्राट अशोक का बनवाया हुआ 150 हाथ ऊँचा स्तूप था।
  • इसी विहार वन के दक्षिण-पूर्व में एक भवन था, जिसके एक भाग में आचार्य वसुबन्धु रहते थे। इन्होंने 'विज्ञप्ति मात्रता सिद्धि' नामक ग्रंथ की रचना की थी।
  • उद्यान के पूर्व में वह मकान था, जहाँ आर्य असंग ने अपने ग्रंथ 'योगाचारभूमि' की रचना की थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. (प्रतिष्ठित व्यवसायी या महाजन या व्यापारी)
  • ऐतिहासिक स्थानावली | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=घोषिताराम&oldid=343709" से लिया गया