कुरिया  

कुरिया रुहेलखंड, उत्तर प्रदेश का प्राचीन नगर था। लखनऊ-काठगोदाम रेलमार्ग पर इस स्टेशन के 2 मील (लगभग 3.2 कि.मी.) पूर्व में 'माली' नामक ग्राम के पास इस प्राचीन बड़े नगर के खंडहर पाए जाते हैं।[1]

  • एक किंवदंती के अनुसार यह नगर राजा वेणु का बसाया हुआ था।
  • यहाँ के खंडहरों में अति प्राचीन पूर्व मौर्य या मौर्य कालीन आहत सिक्के, अहिच्छत्र के मित्र राजाओं और कुषाण काल तथा प्रारंभिक मुसलिम काल के सिक्के मिलते हैं। खंडहर 2 मील × 1 मील है।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 206 |
  2. (पाणिनि के सूत्र ‘रूपादाहतप्रशंसयोर्यप्’ में आहत शब्द प्राचीन सिक्कों के लिए है।)
  • ऐतिहासिक स्थानावली | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुरिया&oldid=495444" से लिया गया