जसो  

जसो बुंदेलखंड, उत्तर प्रदेश का ऐतिहासिक स्थान था। कनिंघम ने इस भू-भाग का नाम 'दरेदा' लिखा है, जो सभंवत: 'दुरेहा' (जसो के निकट) का ही रूपांतर है। प्राचीन काल में जसो जैन संस्कृति का महत्त्वपूर्ण केंद्र हुआ करता था, क्योंकि आज भी सैंकड़ों जैन मूर्तियाँ यहाँ से प्राप्त होती हैं।[1]

  • जसो से प्राप्त मूर्तियों का समय 12वीं शती से 16वीं शती तक है।
  • यहाँ की रियासत बुन्देला महाराज छत्रसाल के वंशजों ने बनाई थी।
  • महाराज छत्रसाल के पुत्र जगतराज को उत्तराधिकार में जेतपुर का राज्य मिला था। जगतराज के वृहत राज्य का एक भाग खुमानसिंह को मिला, इसमें जसो भी सम्मिलित था।
  • बाद के समय में खुमानसिंह ने जसो की जागीर अपने पुत्र हरिसिंह को दे दी, जो कालांतर में एक स्वतंत्र रियासत बन गई।
  • ऐतिहासिक स्थान नचना और खोह, जहाँ गुप्त कालीन अनेक अवशेष तथा अभिलेख प्राप्त हुए हैं, जसो के निकट ही है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 360 |
  • ऐतिहासिक स्थानावली | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=जसो&oldid=360151" से लिया गया