कुथियोट्टम  

कुथियोट्टम भारतीय राज्य की केरल की लोक कलाओं में से एक है।

  • इस कला का प्रदर्शन प्रायः तिरूवनंतपुरम ज़िले में स्थित देवी के मंदिरों में किया जाता है।
  • इसमें कलाकार ठीक उसी तरह का ताज पहने हुए होता है जैसा कि ओट्टन थुल्ल में प्रस्तुति देने वाले ने पहना होता है। साथ ही तीन अन्य कलाकार विभिन्न भाव-भंगिमाओं के साथ तीन अलग-अलग पात्रों के चरित्र की प्रस्तुति देते हैं।
  • सभी कलाकार मंच के पीछे से बजाए जाने वाले वाद्य यंत्रों की धुन पर ताल से ताल मिलाकर नाचते हैं।
  • कुथियोट्टम के मंचन के दौरान सुनाई देने वाले लोक गीतों में मुख्य रूप से दुर्गा, 'पदपट्टु' और कालारिपट्टु नामक देवियों व अन्य देवी-देवताओं की स्तुति होती है।
  • इस लोक कला में खासतौर पर लाल रंग के रेशमी कपड़ों का प्रस्तुति के दौरान उपयोग किया जाता है, जो रंगभूमि को अलग तरह का दृश्य प्रदान करते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुथियोट्टम&oldid=633342" से लिया गया