घुरई नृत्य  

  • भारत में प्रचलित कुछ प्रमुख शास्त्रीय नृत्य शैलियों में से एक घुरई नृत्य है।
  • यह नृत्य चम्बा क्षेत्र में किया जाता है।
  • घुरई का अर्थ है गोल-गोल घूमना।
  • अपने पारम्परिक वस्त्रों में स्त्रियाँ इस नृत्य को करती हैं।
  • घुरई नृत्य में स्त्रियाँ गले में कंठहार, पैरों में पायल, नाक में बेसर, कानों में कर्णफूल धारण करती हैं।
  • घुरई नृत्य में ऐतिहासिक घटना का वर्णन होता है।
  • इस नृत्य को स्त्रियों द्वारा किया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=घुरई_नृत्य&oldid=139551" से लिया गया