ढोल नृत्य  

ढोल नृत्य राजस्थान के प्रसिद्ध लोक नृत्यों में से एक है। यह मरुस्थल क्षेत्र का प्रसिद्ध नृत्य है, जिसका प्रचलन जालौर में है।

  • यह नृत्य मात्र पुरुषों के द्वारा किया जाता है, महिलाएँ इसमें भाग नहीं लेती हैं।
  • ढोल नृत्य एक समारोहिक नृत्य है, जिसे विवाह आदि के दिनों में उत्साह के साथ किया जाता है।
  • इस नृत्य में ढोल बजाने वाले एक मुखिया के साथ चार-पाँच लोग और होते हैं।
  • ढोल को स्थानीय 'थाकना' शैली में बजाया जाता है।
  • 'थाकना' के बाद विभिन्न मुद्राओं व रूपों में सजे पुरुष लयबद्ध तरीके से इस नृत्य में सम्मिलित होते हैं।
  • राजस्थान में ढोली, सरगड़ा, माली तथा भील जाति के लोकवादक तथा गायक इसमें विशेष दक्ष माने जाते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ढोल_नृत्य&oldid=482758" से लिया गया