थियम  

थियम, जिसे 'कालीअट्टम' के नाम से भी जाना जाता है, प्राचीन सामाजिक धार्मिक रस्म है जो केरल में अति प्राचीन काल से मनाई जाती है। 'कालीअट्टम' शब्द का अर्थ है- "काली के लिए पवित्र नृत्य प्रदर्शन"। कालीअट्टम को कभी-कभी 'थियट्टम' से भी संबोधित किया जाता है, क्योंकि प्रत्येक थिरा या गांव में इसका विधिवत प्रदर्शन होता था। यह नाम बताता है कि कालीअट्टम धार्मिक और सामाजिक महत्व का विशेष त्यौहार था।

प्राचीन समय में केरल के हर गाँव का अपना सामान्य मंदिर था, जिसे 'कवु' कहा जाता था और इसके सामने कालीअट्टम का प्रदर्शन अनिवार्य था। 'काली' शब्द का अर्थ मलयालम में 'सुरक्षा' है। कालीअट्टम का महत्व सामाजिक या पारिवारिक सुरक्षा के लिए पवित्र नृत्य भी हो सकता है। द्रविड़ उग्र देवी के उपासक थे, जिन्हें 'कोट्टावई' कहा जाता है। इस देवी को संतुष्ट करने के लिए एक अजीब नृत्य का प्रदर्शन किया गया था। ऐसा कहा जाता है कि पुराने कोट्टावई नृत्य के प्रदर्शन से ही कालीअट्टम की नींव पड़ी। केरल मुख्य रूप से शक्ति (भगवती) के उपासकों की भूमि है और कालीअट्टम बाद में सामाजिक संरचना का अभिन्न अंग बन गया।

केरल का उत्तरी हिस्सा, कोलाथिरी (चिराकल राजा) का प्राचीन राज्य, जिसे कोलाथिरिन के नाम से जाना जाता है, विशेष रूप से काली की पूजा का गढ़ है। इसलिए यह कोलाथुनाद (उत्तरी मालाबार) है, जहां कालीअट्टम केरल के किसी अन्य भाग की तुलना में अधिक निखरा। इस तरह कालीअट्टम की एक विस्तृत श्रृंखला विकसित और पोषित हुई। समय बीतने के साथ काली के विभिन्न पहलुओं को कोलम के विभिन्न नायक और नायिकाओं ने परिभाषित किया। इस प्रकार शंकराचार्य को पोट्टम दैवम, थचोली ओथेनम को पुनियातु पटाविरन, कटांगगोट मक्का को मक्कापुट्टु और कालाथिरी मिलिशिया के महान कमांडर को वयानाट्टुकुलवम के रूप में पाते हैं। संक्षेप में, कालीअट्टम कोलम स्थायी रूप और विशेष गुण है और नायक के साथ परमात्मा की पूजा काफ़ी हद तक विधिपूर्वक की जाती है।

कालीअट्टम में प्रत्येक अभिव्यक्ति को कोलम के रूप में जाना जाता है। वास्तव में कोलम का अर्थ भगवान, देवी, नायक या नायिका का रूप या आकार है जो स्वयं के विशिष्ट रूपों और प्रत्येक रूप का अपना प्रतिनिधि पहलू है। प्रत्येक कोलम के इस पहलू को चेहरा चित्रकला में बाहर लाना एक मुश्किल शिल्प कौशल और कला का अद्वितीय काम है। कुछ कोलम परंपरा के कड़े नियमों के अनुसार अपने चेहरे को रंगने में आठ से दस घंटे का समय लेते हैं। इसी तरह मुकुट, सिर की सज्जा, स्तन कवच, बांहों के गहने, चूड़ियाँ, माला और सभी ऊनी और सूती वस्त्रों से विभिन्न आकार-प्रकार से सुसज्जित कोलम को देखना आश्चर्य भरा होता है। यह कहा जाता है कि कथकली की अद्वितीय सजावट इसी से प्रेरित है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=थियम&oldid=632858" से लिया गया