गोरवारा कुनिथा नृत्य  

गोरवारा कुनिथा नृत्य कर्नाटक में प्रचलित एक धार्मिक नृत्य है, जिसे 'मयलरालिंगा' उत्सव पर किया जाता है। यह नृत्य अपनी चित्ताकर्षक लयात्मकता के लिए जाना जाता है।

  • कर्नाटक के उत्तर में स्थित मयलारा भगवान शिव के भक्तों का धाम है।
  • गोरवारा जनजाति के लोग अपने ईष्ट देव की प्रशंसा में गीत गाते हुए यह नृत्य करते हैं।
  • डमरू और बाँसुरी गोरवारा नर्तकों के मुख्य वाद्य यंत्र हैं।
  • इस नृत्य में नर्तक भालू की खाल से बनी टोपी व काले रंग के वस्त्र धारण करते हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कर्नाटक के लोक नृत्य (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 17 अक्टूबर, 2012।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गोरवारा_कुनिथा_नृत्य&oldid=298900" से लिया गया