ढोलु कुनिथा नृत्य  

ढोलु कुनिथा नृत्य कर्नाटक के प्रमुख नृत्यों में से एक है। ढोल वाद्यों पर आधारित कर्नाटक का यह लोक नृत्य कोरका नामक गडरिया समुदाय के पुरुषों द्वारा किया जाता है।

  • नृत्य करने वाले प्रत्येक नर्तक की कमर में एक बड़ा-सा ढोल बंधा होता है।
  • तीव्र थाप, करतब, नटबाजी, कठिन पद संचालन एवं लय के साथ नृत्य इसकी विशेषता है।
  • ढोलु कुनिथा नृत्य करते समय नर्तक विभिन्न प्रकार की आकर्षक नृत्य संरचना करते हैं।
  • यह नृत्य उत्तरी कर्नाटक तथा दक्षिण कर्नाटक के कुछ हिस्सों में प्रचलित है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कर्नाटक के लोक नृत्य (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 17 अक्टूबर, 2012।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ढोलु_कुनिथा_नृत्य&oldid=298888" से लिया गया