थुक्कम  

थुक्कम केरल का लोक नृत्य है।

  • देवता की पूजा के बाद प्रदर्शक को एक पहिएदार मंच दिया जाता है, जिस पर उठोलाकम जैसा एक स्तंभ होता है।
  • उठोलाकम के एक छोर पर एक हुक होता है, जो नर्तकी की पीठ से जुड़ा होता है। यह छोर ऊपर उठता है। उठोलाकम को उठाकर नर्तकी को हवा में लगभग क्षैतिज रखा जाता है और शारीरिक भंगिमाओं और नृत्य कलाओं से मंच की तीन बार परिक्रमा कराते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=थुक्कम&oldid=632770" से लिया गया