थेय्यन्नम  

थेय्यन्नम केरल की प्राचीन लोक कलाओं में से एक है।

  • यह एक कर्मकाण्ड से ओतप्रोत कला है, जिसकी पुलाया और कुरावा समुदाय के लोगों द्वारा प्रस्तुति दी जाती है।
  • थेय्यन्नम कला मावेलिकारा, पण्डालम् और अलाप्पुज्हा ज़िले के कुछ हिस्सों में देखने को मिलती है।
  • जब व्यक्ति कृषि कार्य करता है तो उसकी पसंद और इस नई शुरुआत के प्रति आदर व उसे प्रोत्साहित करने के लिए यह कला होती है। वह विभिन्न फ़सलों की खेती करता है, तथापि धान की खेती के प्रति उसका ख़ास रूझान होता है, जो कि थेय्यन्नम की विषयवस्तु है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=थेय्यन्नम&oldid=633606" से लिया गया