कोठामूरी  

कोठामूरी उत्तरी केरल के मालवंस के बीच प्रचलित लोक नृत्य है।

  • पत्तों और टहनियों से बैलों की बनी प्रतिकृति को नर्तक कंधों पर लेकर नर्तकियों के पीछे चलते हैं। उनके घाघरे नारियल के पत्तों से बने होते हैं और चेंदा व किन्नी (पीतल की प्लेट) जैसे वाद्य यंत्रों के सुर ताल के साथ नृत्य में गजब का आनंददायी माहौल रहता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कोठामूरी&oldid=632593" से लिया गया