थिदमबूनृथम  

थिदमबूनृथम केरल के उत्तरी हिस्से के कन्नूर ज़िले और कोज्हिकोडे ज़िले के कुछ भागों में काफ़ी प्रचलित एक नृत्य कला है।

  • नाम्बूदिरिस इस नृत्य कला की अगुवाई करते हैं। मरार लोग एक खास तरह का वाद्य यंत्र इस अवसर पर बजाते हैं।
  • एक नाम्बूदिरी के पास भालू थिदाम्बू होता है, कुल सात कलाकार अपने-अपने वाद्य यंत्रों के साथ, दो व्यक्ति हाथों में दीप लिए होते हैं, इस तरह कुल दस लोग इस कला की प्रस्तुति देने के लिए आवश्यक होते हैं।
  • इस नृत्य कला की प्रस्तुति पूरी तरह से श्रृंगारित देवी की प्रतिमा के साथ दी जाती है, जिसे कलाकार अपने सिर पर उठाए रहता है।
  • नृत्य प्रस्तुति में पैरों का सही उपयोग बेहद आवश्यक है, क्योंकि नर्तक को संगीत की धुन के साथ कदम ताल मिलानी होती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=थिदमबूनृथम&oldid=633605" से लिया गया