बघेलखंड  

(बघेलखण्ड से पुनर्निर्देशित)
Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"

बघेलखंड एक ऐतिहासिक-सांस्कृतिक क्षेत्र, छत्तीसगढ़ राज्य एवं मध्य प्रदेश राज्य में स्थित है। बघेलखंड के पूर्व में स्थित बलुआ पत्थर के इस पठार का झुकाव पूर्वोत्तर से दक्षिण-पूर्व की ओर है। कैमूर शृंखला इसे दो प्राकृतिक प्रदेशों में बांटती है। संपूर्ण क्षेत्र में टोंक, सोन व उनकी सहायक नदियाँ बहती हैं। प्रदेश के पूर्वोत्तर में स्थित इन्हीं नदी घाटियों का क्षेत्र खुला एवं गम्य है। पश्चिम में उच्च मैदान हैं और पूर्व में ऊबड़-खाबड़ पहाड़ी मार्ग है, जिस पर विंध्य शृंखला की समानांतर वनयुक्त पर्वतश्रेणियाँ हैं। विंध्य ढलवां भूमि (भांडेर श्रेणी, रीवा के पठार, सोनापुर पर्वतश्रेणियाँ और सोन नदि के नाले से मिलकर बनी) इस प्रदेश के भीतरी भाग की विशेषता है। बघेलखंड का बाकी हिस्सा एक पठारीय क्षेत्र है, जिसके दक्षिण और पूर्वी हिस्से की निचली तह ग्रेनाइट की है। मध्य भाग में गोंडवाना और दक्कन ट्रैप तथा पूर्वोत्तर में बिंध्य है। सोन नदी की संकरी पनाली में जलोढ़ मिट्टी की परत पायी जाती है। गोंड और कोल जनजातियाँ यहाँ की जनसंख्या का प्रमुख हिस्सा हैं। मुसलमानों के आगमन से पूर्व बघेलखंड दहाला के नाम से प्रसिद्ध था और यहाँ युद्ध प्रिय कलचुरी वंश (छठी से बारहवीं शताबदी) का शासक था, जिनका मज़बूत गढ़ कालिंजर था। 14 वीं शताब्दी में बघेल राजपूतों, जिनके नाम पर इस भूभाग का नामकरण हुआ, के उदय के साथ ही इसे रीवा राज्य में मिला दिया गया। 1871 में ब्रिटिश सेंट्रल इंडिया एजेंसी के उपखंड, बघेलखंड प्रांत की स्थापना की गई, जिसमें रीवा और कई अन्य राज्य शामिल थे। इसका मुख्यालय सतना में था। 1931 में यह बुंदेलखंड एजेंसी में मिल गया और 1947 में भारतीय स्वतंत्रता के समय विंध्य प्रदेश का पूर्वी अंश बना।

इस प्रदेश में कृषि विकास कम है, मुख्य फ़सल धान है और गेहूँ, मक्का व चना भी यहाँ उगाया जाता है। बघेलखंड कोयला, एल्युमिनियम वाली मिट्टी बॉक्साइट, चिकनी मिट्टी और क्वार्ट्ज़ की अविकसित, लेकिन विपुल खनिज संपदा मौजूद है। बघेलखंड अपनी भौगोलिक स्थिती, आर्थिक अलगाव और अधिकांश जनजातिय निर्धन कृषक वर्ग के कारण उपेक्षित हैं। चूना-पत्थर और कोयले के अलावा बघेलखंड में मौजूद अन्य खनिज संसाधनों का वाणिज्यिक उद्यम द्वारा समुचित उपयोग नहीं किया जा रहा है।

रीवा, राजगढ़, सतना और शाहडोल प्रशासनिक और वाणिज्यिक केंद्र है, प्रदेश में शहरीकरण का स्तर कम है। अन्य केंद्रों में सोहागपुर नदी द्रोणी में स्थित उमरिया, बड़हर और गौरेला है, बघेलखंड में कोयले के भंडार हैं और खनन भी किया जाता है। प्रदेश के धान उत्पादक क्षेत्र अंबिकापुर, मनेंद्रगढ़ और बैकुंठपुर; कोयला खनन के लिए प्रसिद्ध सिंगरौली, रेणुकूट, पिपरी और दुधी तथा रेल व सड़क संपर्क के विकास और ताप ऊर्जा उत्पादन के लिए प्रसिद्ध ओबरा, दला, सीधी और अगौरी इस क्षेत्र के अन्य केंद्र हैं।  

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बघेलखंड&oldid=503146" से लिया गया