एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "१"।

साहिब सिंह वर्मा

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
साहिब सिंह वर्मा
साहिब सिंह वर्मा
पूरा नाम साहिब सिंह वर्मा
जन्म 15 मार्च, 1943
जन्म भूमि दिल्ली
मृत्यु 30 जून, 2007
मृत्यु स्थान राजस्थान
मृत्यु कारण सड़क दुर्घटना
पति/पत्नी साहिब कौर
संतान 2 पुत्र व 3 पुत्रियाँ
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि राजनीतिज्ञ
पार्टी भारतीय जनता पार्टी
पद चौथे मुख्यमंत्री, दिल्ली
कार्य काल मुख्यमंत्री-27 फ़रवरी, 1996 - 12 अक्टूबर, 1998 तक
शिक्षा लाइब्रेरी साइंस
विद्यालय अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय
अन्य जानकारी सन 1977 में साहिब सिंह वर्मा पहली बार दिल्ली नगर निगम के पार्षद चुने गये। पार्षद के पद की शपथ उन्होंने भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी गुरु राधा किशन के नाम पर ली थी।

साहिब सिंह वर्मा (अंग्रेज़ी: Sahib Singh Verma, जन्म- 15 मार्च, 1943; मृत्यु- 30 जून, 2007) भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष व तेरहवीं लोक सभा के सांसद थे। वर्ष 2002 में उन्हें अटल बिहारी वाजपेयी ने अपनी सरकार में श्रम मन्त्री नियुक्त किया था। साहिब सिंह वर्मा 1996 से 1998 तक दिल्ली के मुख्यमंत्री भी रहे। साहिब सिंह वर्मा का निधन एक मार्ग दुर्घटना में उस समय हो गया, जब वह राजस्थान के सीकर ज़िले में एक विद्यालय की आधारशिला रखकर वापस दिल्ली आ रहे थे। 1999 का लोकसभा चुनाव साहिब सिंह वर्मा ने बाहरी दिल्ली सीट से दो लाख से अधिक वोटों के अंतर से जीता था। नौकरशाही पर लगाम लगाए हुए उन्होंने 'कर्मचारी भविष्य निधि' पर ब्याज की दरों को कम करने से रोका। उनके इस काम को ए बुल इन चाइना शॉप कहकर सराहा गया था।

परिचय

दिल्ली-हरियाणा सीमा पर बसे गांव मुंडका के किसान परिवार में पैदा हुए साहिब सिंह ने ए.एम.यू. से लाइब्रेरी साइंस की पढ़ाई की थी। यहीं दाखिले के वक्त एक प्रोफेसर की सलाह पर उन्होंने अपने नाम में 'वर्मा' जोड़ लिया। डिग्री लेकर लौटे साहिब सिंह वर्मा को दिल्ली की म्यूनिसिपैलिटी की लाइब्रेरी में नौकरी मिल गई। दिल्ली की महानगर पालिका में शुरू से ही जनसंघ का दबदबा था। जनसंघ में संघ का और संघ के स्वयंसेवक थे साहिब सिंह वर्मा। आपात काल के दौर में वॉरंट के बाद भी वह गिरफ्तारी से बचे रहे। मोरारजी देसाई की सरकार के दौरान दिल्ली में स्थानीय निकाय चुनाव हुए तो साहिब सिंह ने डेब्यू किया। केशवपुरम वॉर्ड से पार्षद बने। अस्सी के दशक में उनकी जीत भी दुबारा हुईं और बीजेपी संगठन में कद भी बढ़ा।

राजनीतिक सफर

सन 1977 में साहिब सिंह वर्मा पहली बार दिल्ली नगर निगम के पार्षद चुने गये। पार्षद के पद की शपथ उन्होंने भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी गुरु राधा किशन के नाम पर ली थी। प्रारम्भ में उन्होंने जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीता था, लेकिन जनता पार्टी के टूटने के बाद वे भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी की हैसियत से चुनाव जीते। मदन लाल खुराना की सरकार में उन्हें सन 1993 में शिक्षा और विकास मन्त्रालय का महत्वपूर्ण मन्त्रीपद सौंपा गया, जिस पर रहते हुए उन्होंने कई अच्छे कार्य किये। इसका यह परिणाम हुआ कि 1996 में जब भ्रष्टाचार के आरोप में मदन लाल खुराना ने त्याग पत्र दिया तो दिल्ली प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की कमान साहिब सिंह को ही दी गयी। न्यायालय द्वारा खुराना को भ्रष्टाचार के आरोप से मुक्त कर दिये जाने के बावजूद साहिब सिंह लगभग ढाई वर्ष तक मुख्यमन्त्री बने रहे। माना जाता है कि इससे खुराना नाराज चल रहे थे। आगे चलकर जब दिल्ली में प्याज के दामों में बेतहाशा बृद्धि हुई और उस पर नियन्त्रण नहीं हुआ तो साहिब सिंह को मुख्यमन्त्री पद से हटाकर सुषमा स्वराज को उस कुर्सी पर बिठाया गया। उन्होंने सरकारी आवास तत्काल खाली कर दिया और परिवार सहित उसी समय अपने गाँव आ गये।

साहिब सिंह वर्मा के इस कार्य से जनता में उनकी लोकप्रियता का ग्राफ काफी तेज़ीसे बढा और 1999 का लोकसभा चुनाव उन्होंने बाहरी दिल्ली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से दो लाख से अधिक मतों के अन्तर से जीता। 2002 में अटल बिहारी वाजपेयी ने एनडीए सरकार में उन्हें श्रम और नियोजन मन्त्रालय का दायित्व सौंपा। उन्होंने ब्यूरोक्रेसी के पेंच कसते हुए कर्मचारी भविष्य निधि पर ब्याज की दरों को कम करने से रोका। उनके इस कार्य की मीडिया ने "ए बुल इन चाइना शॉप" कहकर सराहना की। इसके वाबजूद वे 2004 का लोक सभा चुनाव हार गये। दिल्ली के शिक्षक समुदाय में साहिब सिंह काफी लोकप्रिय थे। 'हरीभूमि' के नाम से प्रकाशित होने वाला एक राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र उन्हीं के स्वामित्व में निकलता था।

मृत्यु

मुख्यमंत्री रहते हुए भी साहिब सिंह वर्मा सादगी भरा जीवन जीते थे। मोरी गेट के सरकारी विद्यालय में आम इंसानों की तरह घूमते हुए मिल जाते थे। स्कूल और शिक्षा से इतना जुड़ाव था कि जिस समय उनकी कार की टक्कर हुई, उस समय 30 जून, 2007 को सीकर ज़िला, राजस्थान में नीम का थाना में एक विद्यालय की आधारशिला रखकर वापस दिल्ली आ रहे थे। दुर्घटना में उनके कार चालक देवेश, सहायक नरेश अग्रवाल, सुरक्षाकर्मी जसवीर सिंह भी शिकार बने, जिन्हें उपचार के दौरान बचाया नहीं जा सका।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

भारतीय राज्यों में पदस्थ मुख्यमंत्री
क्रमांक राज्य मुख्यमंत्री तस्वीर पार्टी पदभार ग्रहण
1. अरुणाचल प्रदेश पेमा खांडू
Pema-Khandu.jpg
भाजपा 17 जुलाई, 2016
2. असम हिमंता बिस्वा सरमा
Himanta-Biswa-Sarma.jpg
भाजपा 10 मई, 2021
3. आंध्र प्रदेश वाई एस जगनमोहन रेड्डी
Y-S-Jaganmohan-Reddy.jpg
वाईएसआर कांग्रेस पार्टी 30 मई, 2019
4. उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ
Yogi-Adityanath-1.jpg
भाजपा 19 मार्च, 2017
5. उत्तराखण्ड पुष्कर सिंह धामी
Pushkar-Singh-Dhami.jpg
भाजपा 4 जुलाई, 2021
6. ओडिशा नवीन पटनायक
Naveen-Patnaik.jpg
बीजू जनता दल 5 मार्च, 2000
7. कर्नाटक बसवराज बोम्मई
Basavaraj-Bommai.jpg
भाजपा 28 जुलाई, 2021
8. केरल पिनाराई विजयन
Pinarayi Vijayan.jpg
मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी 25 मई, 2016
9. गुजरात भूपेन्द्र पटेल
Bhupendra-Patel.jpg
भाजपा 12 सितम्बर, 2021
10. गोवा प्रमोद सावंत
Pramod-Sawant.jpg
भाजपा 19 मार्च, 2019
11. छत्तीसगढ़ भूपेश बघेल
Bhupesh-Baghel.jpg
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 17 दिसम्बर, 2018
12. जम्मू-कश्मीर रिक्त (राज्यपाल शासन) लागू नहीं 20 जून, 2018
13. झारखण्ड हेमन्त सोरेन
Hemant-Soren.JPG
झारखंड मुक्ति मोर्चा 29 दिसम्बर, 2019
14. तमिल नाडु एम. के. स्टालिन
M-K-Stalin.jpg
द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम 7 मई, 2021
15. त्रिपुरा माणिक साहा
Manik-Saha.jpeg
भाजपा 15 मई, 2022
16. तेलंगाना के. चन्द्रशेखर राव
K-Chandrasekhar-Rao.jpg
तेरास 2 जून, 2014
17. दिल्ली अरविन्द केजरीवाल
KEJRIWAL.jpg
आप 14 फ़रवरी, 2015
18. नागालैण्ड नेफियू रियो
Neiphiu-Rio.jpg
एनडीपीपी 8 मार्च, 2018
19. पंजाब भगवंत मान
Bhagwant-Mann.jpg
आम आदमी पार्टी 16 मार्च, 2022
20. पश्चिम बंगाल ममता बनर्जी
Mamata Banerjee.jpg
तृणमूल कांग्रेस 20 मई, 2011
21. पुदुचेरी एन. रंगास्वामी
N-Rangasamy.jpg
कांग्रेस 7 मई, 2021
22. बिहार नितीश कुमार
Nitish-Kumar-1.jpg
जदयू 27 जुलाई, 2017
23. मणिपुर एन. बीरेन सिंह
N.Biren-Singh-1.jpg
भाजपा 15 मार्च, 2017
24. मध्य प्रदेश शिवराज सिंह चौहान
Shivraj-Singh-Chouhan-1.jpg
कांग्रेस 23 मार्च, 2020
25. महाराष्ट्र एकनाथ शिंदे
Eknath-Shinde.jpg
शिव सेना 30 जून, 2022
26. मिज़ोरम ज़ोरामथंगा
Zoramthanga.jpg
मिज़ो नेशनल फ्रंट 8 दिसम्बर, 2018
27. मेघालय कॉनराड संगमा
Conrad-Sangma-1.jpg
एनपीपी 6 मार्च, 2018
28. राजस्थान अशोक गहलोत
Ashok-gehlot.jpg
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 17 दिसम्बर, 2018
29. सिक्किम प्रेम सिंह तमांग
Prem-Singh-Tamang.jpg
सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा 27 मई, 2019
30. हरियाणा मनोहर लाल खट्टर
Manohar-Lal-Khattar.jpg
भाजपा 26 अक्टूबर, 2014
31. हिमाचल प्रदेश जयराम ठाकुर
Jairam-Thakur.jpg
भाजपा 27 दिसंबर, 2017

दिल्ली