कैकोट्टी कली  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:48, 8 जुलाई 2018 का अवतरण (''''कैकोट्टी कली''' अथवा '''थिरूवाथिरकली''' केरल का लोक न...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

कैकोट्टी कली अथवा थिरूवाथिरकली केरल का लोक नृत्य है।

  • थिरूवाथिरा और ओणम जैसे त्यौहारों के मौसम में केरल की महिलाओं के द्वारा मंचित किया जाने वाला यह एक लोकप्रिय, सुंदर और सुडौल समूह नृत्य है।
  • यह ल्यासा तत्व के साथ एक सरल और सौम्य नृत्य है, जिसमें कभी-कभी थंडावा तत्व का भी प्रयोग कर लिया जाता है, जब मलाबार क्षेत्र के कुछ भागों में पुरुष भी भाग लेते हैं।
  • मुंडू और नीरीयाथू के साथ केरल शैली के कपड़े पहनी हुई और चमेली का हार पहने हुई महिलाएं नृत्य करती हैं और साथ ही थिरूवाथिरा के मधुर गाने गाती हैं, जिन्हें साहित्यिक तौर पर काफ़ी सम्मान प्राप्त है।
  • कोई भी एक कलाकार गीत की पहली पंक्ति गाता है और बाकि सभी कोरस के साथ तालियां बजाते हुए उसे दोहराते हैं। एक सर्कल में वामावर्त और दक्षिणावर्त घूमते हुए हर कदम पर बगल में मुड़ते हुए, उनकी बांहे खूबसूरत तरीके से एक साथ ऊपर और नीचे जाती हैं, वहीं दूसरी तरफ तालियां बजती रहती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कैकोट्टी_कली&oldid=632537" से लिया गया