अब्दुल रहमान ख़ाँ  

  • अब्दुल रहमान ख़ाँ मारवाड़ जंक्शन (राजस्थान) निवासी भारत के उन स्वतन्त्रता सेनानियों में से एक हैं, जिन्होंने स्वतन्त्रता के साथ-साथ जन सेवा का भी व्रत लिया था।
  • सन् 1944 में बगड़ी गाँव में एक विशाल जन सभा में मारवाड़ लोक परिषद् के नेता जयनारायण व्यास, मीठा लालजी काका भाग ले रहे थे।
  • जैसे ही व्यास जी ने अपने भाषण में ब्रिटिश साम्राज्यवाद, राजशाही व सामन्तशाही जुल्मों की बात कही कि रावले ठाकुर ने बन्दूक चलाकर मंच पर हमला बोल दिया।
  • इस घटना में अब्दुल रहमान ख़ाँ के दिल में स्वतन्त्रता की तड़फ और बढ़ गयी।
  • सन् 1946 में मारवाड़ जंक्शन कांग्रेस कमेटी की स्थापना व गठन किया गया।
  • एक झोपड़ी में तिरंगा लगाकर कार्यालय बनाने वाले अध्यक्ष कोई और नहीं अब्दुल रहमान खाँ ही थे।
  • इन्हें जेल की यात्रा भी करनी पड़ी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

नागोरी, डॉ. एस.एल. “खण्ड 3”, स्वतंत्रता सेनानी कोश (गाँधीयुगीन), 2011 (हिन्दी), भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: गीतांजलि प्रकाशन, जयपुर, पृष्ठ सं 13।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अब्दुल_रहमान_ख़ाँ&oldid=175789" से लिया गया