Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

मार दूलो  

मार दूलो भीकाजी सहकारी के घनिष्ठ मित्र थे। जब उन्होंने सुना की पुर्तग़ाल की पुलिस ने उनके मित्र औैर उनके साथियों को मार डाला तो उनका मन बदला लेने के लिए मचल उठे। उन्होंने धार बंदोरा के जंगल में पुलिस के दल पर आक्रमण करने की योजना बना डाली। भयंकर युद्ध हुआ और दोनों पक्ष के लोग मारे गए। पुलिस की हानि अधिक हुई।

पुर्तग़ाल की पुलिस ने अपनी हानि का बदला लेने के लिए 4 जून, 1956 को मार दूलो को घेर लिया और वह उसे मारने में सफल हो गई। इस युद्ध में भी पुलिस को बहुत जान हानि उठानी पड़ी। मार दूलो गोमांतक दल के क्रांतिकारी थे। पुर्तग़ाल की पुलिस उनका नाम सुनकर काँप उठती थी। मार दूलो स्वतन्त्रता सेनानी थे।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मार दूलो (हिंदी) क्रांति 1857। अभिगमन तिथि: 18 फरवरी, 2017।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मार_दूलो&oldid=601434" से लिया गया