बूटा  

बूटा मुग़ल-भारतीय कला के सबसे महत्त्वपूर्ण सजावटी कला रूपांकनों में से एक है, जो विशेष शैलीगत पत्तियों और फूलों वाली कोमल टहनियों से बनाया जाता है।

  • इसका उपयोग वास्तुकला और चित्रकारी, वस्त्रों, मीनाकारी और अन्य दूसरी सज्जा-कलाओं में किया जाता है।
  • मुग़ल बादशाह जहाँगीर (1605-27) के शासनकाल में यह कला महत्त्व पाने लगी और शाहजहाँ (1628-58) के समय तक इसका निरंतर उपयोग किया गया।
  • आगरा में स्थित ताजमहल (लगभग 1632-49) में इसकी नफ़ासत और रंग-सौंदर्य के उत्कृष्ट उदहारण देखे जा सकते हैं।
  • यह कला रूपांकन 18वीं शताब्दी के आसपास कुछ स्थिर और जड़ होने लगा, किंतु इसकी लोकप्रियता कभी कम नहीं हुई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बूटा&oldid=504438" से लिया गया