वहरुल असमाअ  

वहरुल असमाअ नामक पुस्तक की रचना मुग़ल काल में की गई थी। इस कथा पुस्तक की समाप्ति हिजरी 1004 (1595-96 ई.) में मुल्ला बदायूँनी ने की।[1]

  • 'बहरुल असमाअ' का अर्थ 'नाम सागर' है। 'नाम' का अर्थ यहाँ कथा है।
  • यह हो सकता है कि सोमदेव की कृति 'कथासरित्सागर' का यह फ़ारसी अनुवाद हो। यह काफ़ी बड़ी पुस्तक थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अकबर |लेखक: राहुल सांकृत्यायन |प्रकाशक: किताब महल, इलाहाबाद |पृष्ठ संख्या: 297 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वहरुल_असमाअ&oldid=499832" से लिया गया