अनामी भाषा  

अनामी द्वितीय विश्वयुद्ध से पूर्व हिन्द चीन के पाँच प्रांतों- 'लाओस', 'कंबोडिया', 'अनाम', 'कोचीन चीन' तथा 'टोंटिंग' में से एक प्रांत अनाम की भाषा है। अब यह प्रांत नहीं रह गया है, किंतु भाषा है। इसे बोलने वालों की संख्या अनुमानत: एक करोड़ से कम है।[1]

  • यह चीनी भाषा परिवार की तिब्बती-बर्मी वर्ग की पूर्वी शाखा (अनामी-मुआंग) की एक भाषा है।
  • अनामी भाषा के बोलने वाले कंबोडिया, स्याम और बर्मा तक पाए जाते हैं। इसकी प्रमुख बोली 'टोंकिनी' है।
  • पिछले तीस वर्षो के युद्ध के कारण इसकी जनसंख्या एवं शब्द भण्डार में कल्पनातीत परिवर्तन हो गया है।
  • चीनी भाषा की भाँति अनामी भी एकाक्षर (चित्रलिपि), अयोगात्मक और वाक्य में स्थान प्रधान है।
  • अर्थप्रेषण के लिए लगभग इसमें छ: सुरों का प्रयोग होता है। इसमें ऋण चीनी शब्दों की संख्या सर्वाधिक है।
  • चीनी की भाँति अनामी भाषा ने भी रोमन लिपि को अपना लिया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अनामी (हिन्दी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 18 मार्च, 2015।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः