शौरसेनी  

  • 600 ई.पू. से लेकर 1000 ई. सन् तक उत्तर भारत में जो भाषाएं बोली जाती थीं, उनका सामान्य नाम प्राकृत था।
  • किंतु प्रदेश-भेद से इनके अलग-अलग नाम पड़े।
  • उस समय मथुरा और उसके आसपास का क्षेत्र शूरसेन कहलाता था।
  • इसे मध्यदेश भी कहते थे।
  • यहाँ बोली जानेवाली भाषा शौरसेनी कहलाती थी।
  • अन्य क्षेत्रीय रूप थे- पूर्वदेश की मागधी अथवा अर्ध मागधी और पश्चिमौत्तर प्रदेश की पैशाची
  • अशोक के समय के प्राचीन लेखों में इन्हीं प्राकृतों, विशेषत: शौरसेनी का प्रयोग पाया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शौरसेनी&oldid=509745" से लिया गया