मंसूर अली ख़ाँ  

मंसूर अली ख़ाँ (1829-1884 ई.) बंगाल का अंतिम नवाब नाजिम था।

  • इससे पहले मुर्शिदाबाद के नवाबों को 19 तोपों की सलामी का अधिकार मिला हुआ था।
  • उन्हें दीवानी अदालतों में हाजिर नहीं होना पड़ता था।
  • इस प्रकार के समस्त अधिकार मंसूर अली ख़ाँ से छीन लिए गये।
  • उसके वेतन और भत्तों में भी कमी कर दी गई।
  • मंसूर अली ख़ाँ स्वयं इंग्लैण्ड गया और वहाँ 'हाउस ऑफ़ कॉमन्स' में अपील की।
  • वहाँ उसकी अपील को नामंजूर कर दिया गया।
  • इसके फलस्वरूप 1880 ई. में मंसूर अली ख़ाँ ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 343 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मंसूर_अली_ख़ाँ&oldid=267872" से लिया गया