Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

विलियम नॉट  

  • विलियम नॉट (1782 से 1845 ई. तक) ईस्ट इंडिया कम्पनी की बंगाल सेना में 1800 ई. में एक सैनिक पदाधिकारी होकर आया था।
  • विलियम नॉट की अतिशीघ्र पदोन्नति हुई और 1839 ई. में उसे कंदहार स्थित ब्रिटिश सेनाओं का नेतृत्व सौंपा गया।
  • आगे चलकर विलियम नॉट ने अफ़ग़ानों के आक्रमणों से कंदहार की रक्षा की।
  • मैकनाटन की हत्या के उपरान्त उसने बिना स्पष्ट आदेश के भारत लौटना अस्वीकार कर दिया, किन्तु जब 1842 ई. के जुलाई मास में लार्ड एलेनबरा ने उसे अपने मनचाहे मार्ग से लौटने की अनुमति दी, तब उसने लौटने के लिए जानबूझकर लम्बा मार्ग चुना।
  • ग़ज़नी होता हुआ विलियम नॉट 17 सितम्बर, 1842 ई. को क़ाबुल पहुँचा और ब्रिटिश सेनाओं की शक्ति जताता हुआ जलालाबाद होकर भारत लौटा।
  • इस प्रकार विलियम नॉट ने अफ़ग़ान युद्ध की पराजय को विजय का स्वरूप दे दिया।
  • इसके उपरान्त उसकी नियुक्ति क़ाबुल के रेजीडेण्ट के रूप में हुई और 1844 ई. में उसने भारतीय सेवा से अवकाश ग्रहण कर किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • पुस्तक 'भारतीय इतिहास कोश' पृष्ठ संख्या-219

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विलियम_नॉट&oldid=153707" से लिया गया