सर फ़िलिप फ़्राँसिस  

सर फ़िलिप फ़्राँसिस (1740-1818 ई.) रेग्युलेटिंग एक्ट के अंतर्गत बंगाल में फ़ोर्ट विलियम के गवर्नर-जनरल की परिषद का सदस्य नामजद किया गया था। फ़िलिप फ़्राँसिस और गवर्नर-जनरल वारेन हेस्टिंग्स के बीच सदा संघर्ष की स्थिति रहती थी, क्योंकि फ़िलिप फ़्राँसिस ने भारत में हेस्टिंग्स की नीतियों का कड़ा विरोध किया था।

  • फ़िलिप फ़्राँसिस को रेग्युलेटिंग एक्ट के अंतर्गत बंगाल में फ़ोर्ट विलियम भेजा गया था।
  • भारत में उसका वार्षिक वेतन 10 हज़ार पौण्ड निर्धारित हुआ था।
  • अक्टूबर 1774 ई. में कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) आने के कुछ समय बाद उसने दो अन्य सहयोगियों-'मौनसन' और 'क्लेवरिंग' का सहयोग प्राप्त किया।
  • अपने इन दोनों सहयोगियों के साथ फ़िलिप फ़्राँसिस ने गवर्नर-जनरल वारेन हेस्टिंग्स की नीतियों और शासन प्रणाली का तीव्र विरोध किया।
  • इस प्रकार फ़्राँसिस और वारेन हेस्टिंग्स में एक ज़बर्दस्त संघर्ष प्रारम्भ हो गया, जिसका अन्त फ़्राँसिस की हार से हुआ।
  • 1780 ई. में पुन: फ़्राँसिस और वारेन हेस्टिंग्स में संघर्ष हो गया और उसके बाद वह असक्त होकर इंग्लैंण्ड वापस चला गया।
  • इंग्लैंण्ड में उसने वारेन हेस्टिंग्स पर महाभियोग लगाने के अभियान को संगठित और संचालित करने में प्रमुख भाग लिया।
  • फ़िलिप बंगाल में लगान के स्थायी बंदोबस्त का सुझाव देने वाला पहला अंग्रेज़ अधिकारी था।
  • 1795 ई. में वारेन हेस्टिंग्स के निर्दोष घोषित किये जाने पर वह बहुत निराश हुआ और 1807 ई. में सार्वजनिक जीवन से अलग हो गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 260 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सर_फ़िलिप_फ़्राँसिस&oldid=232272" से लिया गया