Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

आत्मसम्मान आन्दोलन  

आत्मसम्मान आन्दोलन वर्ष 1920 में ई. वी. रामास्वामी नायकर द्वारा दक्षिण भारत में प्रारम्भ किया गया था।

  • ई. वी. रामास्वामी नायकर जो कि 'पेरियार' के नाम से प्रसिद्ध थे, ने इसकी शुरुआत की थी। इन्होंने हरिजनों को सहयोग दिया और वायकोम सत्याग्रह का नेतृत्व किया।
  • रामास्वामी नायकर ने मनु धर्म शास्त्रों और 'रामायण' को जलाने की वकालत की। हिन्दू रूढ़िवादिता का खण्डन किया।
  • वर्ष 1925 में नायकर ने अपना एक समाचार पत्र ‘कुदी-अरासु’ निकाला और एक उग्र समाज सुधारक के रूप में जाने गए।
  • नायकर पेरियार ने धर्म के साथ-साथ ब्राह्मणों के आधिपत्य और जाति प्रथा पर भी आक्रमण किया। विधवा विवाह और परिवार नियोजन जैसे मुद्दों पर बल दिया।
  • ‘आत्म सम्मान लीग’ सन 1944 में 'जस्टिस पार्टी' के साथ मिलकर ‘द्रविड़कड़गम’ बनी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

सम्बंधित लेख

टीका टिप्पणी और संदर्भ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आत्मसम्मान_आन्दोलन&oldid=532004" से लिया गया