फ़ोर्थ  

डॉ. फ़ोर्थ बंगाल की तत्कालीन राजधानी मुर्शिदाबाद के निकट क़ासिम बाज़ार स्थित ईस्ट इंडिया कम्पनी की एक कोठी से सम्बद्ध अंग्रेज़ चिकित्सक था।

  • 1756 ई. में मार्च के उत्तरार्ध में जब नवाब अलीवर्दी ख़ाँ गम्भीर रूप से बीमार पड़ गया, तो डॉ. फ़ोर्थ उसे देखने गया।
  • डॉ. फ़ोर्थ जिस समय बीमार नवाब से बातचीत कर रहा था, उसके पौत्र और सम्भावित उत्तराधिकारी सिराजुद्दौला ने नवाब को सूचना दी।
  • सिराजुद्दौला ने नवाब को बताया कि अंग्रेज़ों ने मेरे विरुद्ध षड़यंत्र करने वाली घसीटी बेगम को सहायता देना स्वीकार कर लिया है।
  • मरणासन्न नवाब द्वारा फ़ोर्ड से पूछे जाने पर कि क्या यह सच है, डॉ. फ़ोर्थ ने नवाब को ग़लत जानकारी दी।
  • फ़ोर्थ ने ईस्ट इंडिया कम्पनी की तरफ़ से इस बात की भी घोषणा की कि बंगाल की राजनीति में हस्तक्षेप करने का कम्पनी का कोई इरादा नहीं है।
  • फ़ोर्थ की इस बात पर सिराजुद्दौला को कोई विश्वास नहीं था।
  • इस घटना से पता चलता है कि ईस्ट इंडिया कम्पनी के कर्मचारी कम्पनी के हितों के संरक्षण के लिए किस तरह से झूठ बोलते और छल करते थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 260 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=फ़ोर्थ&oldid=291126" से लिया गया