अभिशाह  

अभिशाह महाभारत कालीन एक बर्बर जाति थी। महाभारत युद्ध के दौरान दसवें दिन दु:शासन के ललकारने पर इस जाति के लोग अर्जुन पर हमला कर देते हैं।

  • महाभारत युद्ध के पहले दिन इन्हें धृतराष्ट्र के पुत्रों के पीछे अनुगमन करते बताया गया है।
  • दुर्योधन के कथनानुसार दसवें दिन जयद्रथ का बचाव करते हुए इनका हनन होता है।
  • युधिष्ठिर और भीम इन पर प्रहार करते हैं।
  • 15वें दिन के पश्चात् संजय धृतराष्ट्र को बताता है कि अभिशाह जाति का सफाया हो चुका है।[1]

 

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-1 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 54 |

  1. महाभारत, भीष्मपर्व, अध्याय 117, 18, 106, 119. महाभारत, द्रोणपर्व, अध्याय 91, 93, 150, 157, 161 तथा कर्णपर्व, अध्याय 6।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अभिशाह&oldid=255455" से लिया गया