दास  

दास / दस्यु

  • भारत में आदिम समुदाय के लोग, जिनका यहाँ आ कर बसने वाले आर्यों के साथ टकराव हुआ, 1500 ई. पू. में आर्यों ने इनका काली चमड़ी वाले, कटु भाषी लोगों के रूप में वर्णन किया है, जो लिंग की पूजा करते थे।
  • इस प्रकार कई विद्वानों की यह धारणा बनी कि हिंदुओं के धार्मिक प्रतीक लिंगम की पूजा की यहाँ से शुरुआत हुई, हालांकि हो सकता है कि इसका संबंध उनकी यौन क्रियाओं से रहा हो।
  • वे क़िलेबंद स्थानों पर रहते थे, जहाँ से वे अपनी सेनाएँ भेजते थे।
  • वे संभवत: मूल शूद्र या श्रमिक रहे होंगे, जो तीनों उच्च वर्गों, ब्राह्मणों[1], क्षत्रियों[2] और वैश्यों[3] की सेवा करते थे और जिन्हें उनके धार्मिक अनुष्ठानों से अलग रखा गया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पुरोहित
  2. योद्धाओं
  3. व्यापारियों

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दास&oldid=497726" से लिया गया