बनिया जाति  

  • (संस्कृत शब्द वाणिज्य से उत्पन्न), सामान्यत: पैसा उधार देने वालों अथवा व्यापारियों का भारतीय जाति, मुख्यत: उत्तरी और पश्चिमी भारत में पाई जाती हैं हालाकि संकीर्ण अर्थ में कई व्यापारी समुदाय बनिए नहीं हैं और विलोमत: कुछ बनिए व्यापारी नहीं हैं।
  • भारतीय समाज की चतुष्वर्णीय व्यवस्था में असंख्य बनिया उपजातियों, जैसे अग्रवाल को वैश्य वर्ण का सदस्य माना जाता है।
  • धार्मिक अर्थों में वे सामान्यत: वैष्णव या जैन होते हैं और पूर्णत: शाकाहारी, मद्यत्यागी और आनुष्ठानिक पवित्रता के पालन में रूढ़िवादी होते हैं।
  • महात्मा गांधी गुजराती बनिया जाति के थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बनिया_जाति&oldid=510404" से लिया गया