कोल जनजाति  

कोल जनजाति मध्य प्रदेश के रीवा, पन्ना एवं सतना ज़िलों में पाई जाती है। यह भारत की आदिम जनजातियों में गिनी जाती है।

  • व्यावसायिक दृष्टि से इस जाति के अधिकांश लोग उद्योगों में श्रमिक के रूप में कार्य करते हैं।
  • कोल जनजाति में पंचायत का अत्यंत महत्व होता है, जिसके निर्णय को सभी लोग मानते हैं। पंचायत को 'गोहिया' एवं 'मैयारी' कहा जाता है।
  • मध्य प्रदेश में इस जनजाति पर औद्यौगीकरण का सर्वाधिक प्रभाव पडा है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कोल_जनजाति&oldid=300811" से लिया गया